Monday, July 22, 2024
हिंदी समाचार पोर्टल


इण्डिया I.N.D.I.A पर शुरू हई सियासी जंग, जुड़ने से पहले ही क्या बिखर जाएगा विपक्ष

I.N.D.I.A पर शुरू हई सियासी जंग, जुड़ने से पहले ही क्या बिखर जाएगा विपक्ष   दोस्तों देश में नए सियासी…

By शाम्भवी मिश्रा , in देश राजनीति , at July 25, 2023 Tags: , ,


I.N.D.I.A पर शुरू हई सियासी जंग, जुड़ने से पहले ही क्या बिखर जाएगा विपक्ष

 

दोस्तों देश में नए सियासी जंग की शुरुआत हो चुकी है, जहां एक तरफ बीजेपी की अगुआई में  38 दलों की राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंध स्थापित है, वहीं दूसरी ओर अब विपक्ष के 26 दल इंडिया के नाम से गठबंधन करके बीजेपी को टक्कर देने के लिए मैदान में उतर चुके हैं। लेकिन विपक्ष के गठबंधन के नए नाम “इंडिया” को लेकर के जोरों शोरों से सियासी जंग छिड़ चुकी है।

 

“इण्डिया” क्या है

 

आपको बता दें कि विपक्ष के 26 दलों ने आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए अपनी रणनीति को मजबूत करते हुए बीते मंगलवार को ” नेशनल इंडिया डेवलपमेंटल इंक्लूसिव एलाइंस” (इंडिया) नाम से एक नए गठबंधन का अनाउसमेंट किया है। विपक्षी दल की यह रणनीति है कि “इंडिया” नाम के सहारे साल 2024 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पराजित करने में सफलता हासिल की जा सकती है।

 

I.N.D.I.A नाम पर बवाल

 

विपक्षी दलों और कांग्रेस ने नए गठबंधन के “इंडिया” नाम की घोषणा तो कर दी है,लेकिन इस घोषणा के साथ ही नए बवाल की शुरुआत भी हो चुकी है। एक तरफ तो भाजपा विपक्षी गठबंधन के इस नाम को लेकर घोर विरोध जता रही है, लेकिन इसके साथ ही साथ अब विपक्षी दलों में आपस में ही इस नए नाम को लेकर विवाद बढ़ता ही जा रहा है।

 

राहुल गांधी ने दिया बयान

 

कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के बीच विपक्षी गठबंधन के नए नाम “इंडिया” को लेकर के लगातार विवाद की स्थिति बनी हुई है। जहां एक और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने यह कहा है कि ,”अब लड़ाई इंडिया और नरेंद्र मोदी के दरमियान है” वहीं दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी के नेता ने विपक्षी दल के गठबंधन के नाम पर हमला बोलते हुए यह दावा किया है कि देश का नाम इंडिया अंग्रेजों द्वारा दिया गया था।

 

“इण्डिया” पर भाजपा का हमला

 

बता दें की कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने बयान में यह कहा है कि “अब जंग इंडिया और नरेंद्र मोदी के बीच होगी और यह बताने की आवश्यकता नहीं है कि इस जंग में जीत किसकी होगी”।  इस बयान के जवाब में भाजपा ने कहा है कि “गठबंधन का नाम “इंडिया” दे देने से विपक्ष का चरित्र नहीं बदल जाता है और साल 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव की लड़ाई भारत माता और इंडिया के बीच होने वाली है।” 

 

जनता पर हुआ भावनात्मक हमला

 

इसमें कोई दो राय नहीं है कि कांग्रेस के चरित्र पर घोटालों के अनगिनत दाग लगे हुए हैं जिन्हें वह चाहते हुए भी नहीं साफ कर पा रही थी और यही कारण है कि विपक्षी दल ने गठबंधन का नाम “इंडिया” रखा है ताकि इस नाम के सहारे विपक्ष की नैया पार लग सके। विपक्ष ने जनता के भावनात्मक पहलू पर वार करते हुए गठबंधन को देश का नाम दिया हैं।देश की जनता “इंडिया” के साथ हार शब्द का इस्तमाल सहन नहीं कर सकेगी और यही कारण है की विपक्ष अपनी जीत को लेकर अस्वस्त होता नजर आ रहा है।

 

“इंडिया” नाम को लेकर विपक्ष में मतभेद

 

सूत्रों के अनुसार विपक्षी गठबंधन के नए नाम ” इंडिया” को लेकर विपक्ष भी एकमत नही है। गठबंधन में शामिल कई दलों ने पार्टी के I.N.D.I.A नाम से आपत्ति जताई है। वहींं विपक्ष के कुछ नेताओं का यह कहना भी है की कई और पार्टियों के नाम में भारत या भारतीय शब्दों का उपयोग किया जा चुका है। विपक्ष का कहना है की इस देश का हर नागरिक इंडिया है।

 

“इंडिया” नाम का प्रस्ताव किसने दिया

 

सूत्रों की माने तो बताया जा रहा है की गठबंधन का नाम “इंडिया” रखने का प्रस्ताव टीएमसी की चीफ ममता बनर्जी द्वारा दिया गया था और बाद में राहुल गांधी ने इसका समर्थन किया था। हालांकि इसके अलावा भी विपक्ष में शामिल दलों के नेताओं ने अलग – अलग नाम सुझाए थे। “इंडिया” नाम का चयन होने के बाद इसके फुलफॉर्म को लेकर काफी चर्चा हुई थी जिसके बाद विपक्षी दल इस निष्कर्ष पर पहुंचा की “इंडिया” का फुलफॉर्म होगा इंडियन नेशनल डेवलपमेंट इंक्लूसिव एलाइंस।

 

बिहार के नेता नीतीश कुमार ने भी I.N.D.I.A नाम पर कड़ा विरोध जताते हुए यह सवाल किया है की इस नाम का क्या अर्थ हुआ, बात दें की नीतीश कुमार ने अंग्रेजी नाम को लेकर आपत्ति जताई है। बात करें नीतीश कुमार की तो अभी तक उन्होंने सभी विपक्षी दलों को एक साथ करने में अहम भूमिका निभाई है लेकिन जिस तरह से कांग्रेस ने विपक्षी गठबंधन को हाइजेक कर दिया है इस बात से नीतीश कुमार सहित जेडीयू और आरजेडी के नेताओं में नाराजगी देखने को मिली है। विपक्षी दलों के इस गठबंधन को इस बात का पूरा यकीन है की अब ” इंडिया” को कोई हरा नहीं सकता हालांकि इन दलों में आपसी एकमत और एकता की बाहरी कमी नजर आ रही है। अब यह तो समय ही बताए का 2024 में लोकसभा का चुनाव ” इंडिया” जीतेगी या भारत के लोग भारतीय जनता पार्टी के साथ बहुमत से खड़े रहेंगे।

 

Secure Your Website with more Secure SSL Security visit ticktry.com

Read This also: चाँद की तरफ तेजी से बढ़ रहा है चंद्रयान 3, जानिए इस मिशन से जुड़ी हर जानकारी

 

 

Advertisement

Comments